Home » केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में ‘मिंडरिंग जर्नीस’ प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया
National NCR

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में ‘मिंडरिंग जर्नीस’ प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में 'मिंडरिंग जर्नीस' प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया

त्रिवेणी कला संगम में प्रदर्शिनी : मिंडरिंगजर्नीस (MeanderingJourneys) 

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में ‘मिंडरिंग जर्नीस’ प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया। यह प्रदर्शनी फोटोग्राफर-कौशिक अमृथर और चित्रकार व मूर्तिकार रेणुका सोंधी-गुलाटी को एक साथ लाती है। प्रदर्शिनी  23 दिसंबरतक प्रतिदिन  11 से सायं 8 बजे तक चलेगी

नई दिल्ली,दिसंबर १४,२०१८ ( सुरेंद्र वयस द्वारा ):​यह प्रदर्शनी फोटोग्राफर-कौशिक अमृथर और चित्रकार और मूर्तिकार रेणुका सोंधी-गुलाटी को एक साथ लाती है। कैलिफोर्निया में स्थित कौशिक और नई दिल्ली स्थित रेणुका का यह गठबंधन भौगोलिक नहीं है। उनके काम कई विचारों और स्थानों को पार करते हैं, और उनकी प्रदर्शनी में दर्शकों को एक ही यात्रा- शाब्दिक और रूपक तय करने में सक्षम बनाती है। रेणुका के काम में आज की महिला अपने सभी पहलू को निभाते हुए अपने इक्कीसवी सदी के अस्तित्व की पहचान बना रही हैI औरत, प्रकृति और पृथ्वी – रेणुका के काम में इन तीनो का सामंजस्य है जो पुरुष प्रधान समाज के द्वारा पैदा की गयी विकृतियों से जूझ रही हैं। रेणुका का काम दुनिया को संदर्भित करता है और हमें कौशिक की तस्वीरों की ओर ले जाता है जो स्पष्ट रूप से जटिल दुनिया को सरल बना रहीं हैं।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में 'मिंडरिंग जर्नीस' प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में 'मिंडरिंग जर्नीस' प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में 'मिंडरिंग जर्नीस' प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका संजय गाँधी ने वीरवार सांयकाल त्रिवेणी कला संगम में 'मिंडरिंग जर्नीस' प्रदर्शनी का  उद्घाटन किया

कौशिक की स्याह-सफ़ेद तसवीरें उनके फ्रेम में दुनिया को उसकी बुनियादी रूप में प्रस्तुत करती हैं। यदि कला का उद्देश्य अपरिचित से परिचित होना है, तो कौशिक की तसवीरें दर्शकों को दी गई अनुभवी नवीनता में बहुत ही शानदार है। कौशिक की तस्वीरें रूपों और रेखाओं के अद्वितीय दृष्टिकोण को प्रतिबिंबित करती हैं, जो पौराणिक किंवदंतियों और दक्षिण-पश्चिमी अमेरिका और अलास्का में उभरती स्वदेशी संस्कृतियों की आध्यात्मिकता को उजागर करने वाली छवियों में शामिल होती हैं।

रेणुका सोंधी-गुलाटी की कृतियाँ कालजीवित लगती हैI उनकी मूर्तियों, चित्रों और प्रतिष्ठानों में वास्तविकता और कला दोनों का ही समन्वय है. उनमे एक भविष्यवादी दृष्टि है जो वास्तविकता की तकनीक से कलाकृति में दिखाई देती है।  गुलाटी का कैनवास जीवित आत्मा का जश्न है – वह स्त्री, जो दर्द और पीड़ा को सहन करती है, फिर भी एक उदार भविष्य के लिए पुल बन जाती है।

एक राष्ट्रीय वरिष्ठ फेलो, रेणुका 9वीं कला बिएननेल, माल्टा, 2011 में इंटरनेशनल बेस्ट मूर्तिकला पुरस्कार प्राप्तकर्ता हैं। उन्हें कई बार ललित कला राष्ट्रीय और एआईएफएसीएस राष्ट्रीय प्रदर्शनी के लिए चुना गया है। उन्होंने भारत और विदेश दोनों की गैलरियों में अपना काम प्रदर्शित किया है, और बर्लैंड गैलरी, स्कॉटलैंड, एटी गैलरी में संग्रह का हिस्सा है; सूर्यवीर कोहली कला, चंडीगढ़ हवाई अड्डे, उत्तरी क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, चंडीगढ़, साहित्य कला अकादमी, दिल्ली, और ललित कला अकादमी के साथ ही राष्ट्रपति भवन के निजी संग्रह में भी उनका काम हैं ।

बारह देशों से होती हुई कौशिक जी की यह भारत में पहली परदर्शिनी है ।

 

Most Read

All Time Favorite

Categories

RSS Tech Update

  • An error has occurred, which probably means the feed is down. Try again later.