Home » हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों को घरों में दुबकाया
Haryana

हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों को घरों में दुबकाया

हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों को घरों में दुबकाया

नारनौल में गिरे घने कोहरे में लाइट जलाकर अपने गंतव्य की ओर जाता वाहन चालक तथा नसीबपुर में अलाव जलाकर सर्दी भगाते दुकानदार।

अधिकतम तापमान में 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट, सूर्य देवता ने एक से डेढ़ घंटे दिए दर्शन
बी.एल. वर्मा द्वारा :
नारनौल,24दिसम्बर,2019:जिले में शीतलहर का कहर जारी है। हाड़ कंपाती ठंड के कारण लोग घरों में दुबके रहने को मजबूर हो गए हैं। सोमवार को जिले का न्यूनतम तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस रहा तथा अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, वहीं मंगलवार को न्यूनतम तापमान में इजाफा हुआ तथा अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार को न्यूनतम तापमान 3.7 डिग्री सेल्सियस रहा, वहीं अधिकतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। क्षेत्र में सुबह के कोहरा व आसमान में छाये बादल के कारण आज अधिकतम तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार को दिन के समय सूर्य देवता ने मात्र एक से डेढ़ घंटे दर्शन दिए, जिससे कारण लोगों पूरे दिन आग का सहारा लेना पड़ा तथा गर्म कपड़ों में लिपटे रहना पड़ा।
मंगलवार को सुबह के समय घने कोहरे के कारण वाहनों की रफ्तार पर ब्रेक लग गए। सडक़ों पर वाहनों की रफ्तार काफी धीमी रही। दोपहर करीब दो बजे सूर्य देवता ने दर्शन दिए तो सर्दी से थोड़ी राहत मिली, लेकिन कुछ ही देर बाद बादलों ने सूर्य को अपने आगोश में ले लिया। इस समय सर्दी अपने पीक पर है। लगातार तापमान में गिरावट दर्ज हो रही है। अक्सर नारनौल और हिसार प्रदेश के सबसे ठंडे जिले रहते हैं। रविवार को जहां न्यूनतम तापमान 4.5 डिग्री व न्यूनतम तापमान 19.0 डिग्री सेल्सियस था। सोमवार को न्यूनतम तापमान में 2.8 डिग्री व अधिकतम तापमान में एक डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। वहीं मंगलवार को न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले कुछ दिनों में कोहरा व ठंड दोनों का प्रकोप और बढ़ सकता है। अधिक ठंड व पाला गिरने से फसलों में नुकसान हो सकता है। वहीं कोहरा फसलों के लिए फायदेमंद है। जरूरी कार्य से ही लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं। दो दिन से सर्दी अधिक होने के कारण स्कूल जाने वाले बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं। अभिभावकों ने सरकार व प्रशासन से स्कूलों की छुट्टी करने की मांग की है।
पाला से फसलों के नुकसान होने का आशंका:

हाड़ कंपाती ठंड ने लोगों को घरों में दुबकाया

कृषि विशेषज्ञ के अनुसार इस समय मौसम गेहूं और सरसों दोनों फसलों के लिए अनुकूल है। अगर आसमान साफ  होने के बाद पाला जमता है तो यह सरसों की फसल को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे मौसम में किसानों को अपनी फसल की हल्की सिंचाई करनी चाहिए। इससे जमीन का तापमान बढ़ जाता है, जो पाला से फसलों को बचाने का काम करता है। ठंड फसल के लिए लाभप्रद होगी। गेहूं के लिए इस समय ठंड होना जरूरी होता है।
बच्चे व बूढ़ों का रखें विशेष ख्याल: उपायुक्त
ठंड के मौसम को देखते हुए उपायुक्त जगदीश शर्मा ने नागरिकों को सलाह दी है कि वे शीत लहर के दौरान आवश्यक सावधानियां बरतें। विशेषकर बच्चे व बूढ़े पर्याप्त मात्रा में गर्म कपड़े पहनें। उन्होंने बताया कि हरियाणा आपदा प्रबंधन विभाग की हिदायतों अनुसार हर नागरिक मौसम के पूर्व अनुमान की जानकारी रखें तथा साथ ही आपातकालीन स्थिति में सूचना की जानकारी पुख्ता रखें। डीसी ने सभी से आह्वान किया कि वे अपने आस-पड़ोस में इस बात पर नजर रखें कि कोई वृद्ध अकेला रहता है तो उसका हाल-चाल जानते रहें। कई बार शर्दी के मौसम में उनके लिए बहुत मुश्किल हो जाती है। यह हम सबका फर्ज बनता है कि ऐसे बड़े-बुजुर्गों का हाल-चाल जानते रहें। उन्होंने कहा कि जहां तक संभव हो बड़े-बुजुर्गों को घर पर ही रहना चाहिए। बाहर निकलते समय टोपा व मफलर का प्रयोग करें। घर में भी दरवाजे को बंद रखें। रात को अगर अंदरुनी कमरा है तो उसमें सोएं। नियमित रूप से गर्म पेय लेते रहें। गर्मी के आपूर्ति के लिए गर्म प्रकार का भोजन करें। गैर मादक पेय पीएं ताकि निर्जलीकरण से बचा जा सके।

Most Read

All Time Favorite

Categories

RSS Tech Update

  • An error has occurred, which probably means the feed is down. Try again later.