Home » विधानसभा आम चुनाव 2019:-
Election Haryana

विधानसभा आम चुनाव 2019:-

विधानसभा आम चुनाव 2019:-

प्रचार के दौरान जाति या संप्रदाय की भावनाओं के आधार पर कोई अपील न करें प्रत्याशी: उपायुक्त
-प्रत्याशी व उनके कार्यकर्ता चुनाव आचार संहिता की पालना करें
त्रिभुवन वर्मा द्वारा :
नारनौल, 4अक्टूबर 2019। चुनाव आचार संहित के दौरान सभी दल और कैंडिडेट ऐसी सभी गतिविधियों से ईमानदारी से परहेज करेंगे जो निर्वाचन आयोग की नजर में भ्रष्ट आचरण एवं अपराध की श्रेणी में आता है। अब नामांकन के बाद सभी प्रत्याशी व दल अपने लिए प्रचार में जुटेंगे। ऐसे में कोई दल या कैंडिडेट ऐसी किसी गतिविधि में शामिल न हो, जिससे विभिन्न जातियों और धार्मिक या भाषायी समुदायों के बीच कोई मतभेद, नफरत अथवा तनाव पैदा होने का खतरा हो। प्रचार के दौरान जाति या संप्रदाय की भावनाओं के आधार पर कोई अपील न की जाए साथ ही मस्जिदों, चर्चों मंदिरों और पूजा के अन्य स्थलों को निर्वाचन प्रचार के मंच के रूप में प्रयोग न किया जाए।
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त जगदीश शर्मा ने शुक्रवार को सभी दलोंं व प्रत्याशियों से आह्वान किया है कि वे चुनाव में निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन के अनुसार कार्य करें। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय का निर्देश पर निर्वाचन आयोग ने मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय और राज्यीय राजनीतिक दलों से परामर्श के बाद ही आचार संहित बनाई है। इसका सभी सम्मान करें।
प्रचार के दौरान रखें इन बातों का ख्याल

यदि दूसरे राजनीतिक दलों की आलोचना की जाए तो यह उनकी नीतियों और कार्यक्रमों तथा पिछले रिकार्ड और कार्य तक ही सीमित रखी जाए। दलों और कैंडिडेट के निजी जीवन के सभी पहलुओं की आलोचना से बचे। असत्यापित आरोपों या मिथ्या कथन के आधार पर अन्य दलों या उनके कार्यकर्ताओं की आलोचना करने से बचना चाहिए।
-प्रत्येक नागरिक के शांतिपूर्ण और बाधारहित घरेलू जीवन के अधिकार का सम्मान किया जाए फिर चाहे उनकी राजनीतिक राय या गतिविधियों से कितने भी अप्रसन्न हों। किसी भी परिस्थिति में उनकी राय अथवा गतिविधियों के खिलाफ  विरोध जताने के लिए व्यक्तियों के घर के सामने प्रदर्शन आयोजित करने या धरना देने का सहारा नहीं लिया जाए।
-कोई भी राजनैतिक दल या प्रत्याशी अपने अनुयायियों को किसी भी व्यक्ति की अनुमति के बिना उसकी भूमि, भवन व परिसर की दीवारों इत्यादि पर झंडा लगाने, बैनर लटकाने, सूचना चिपकाने, नारा लिखने इत्यादि की अनुमति नहीं देगा।
-राजनैतिक दलों और प्रत्याशियोंं द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि उनके समर्थक अन्य दलों द्वारा आयोजित सभाओं और जुलूसों में बाधा खड़ी नहीं करेंगेे। किसी दल के कार्यकर्ता अन्य दल के कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए पोस्टर नहीं हटाएंगे।
सभाएं करने के दौरान ये बरतें ये एतिहात:
दल या प्रत्याशी स्थानीय पुलिस प्राधिकारियों को किसी भी प्रस्तावित सभा के स्थल और समय के बारे में काफी पहले से सूचित करेंगे, ताकि पुलिस यातायात को नियंत्रित करने और शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए आवश्यक व्यवस्था कर सके। इसके लिए चुनाव आयोग ने सुविधा एप की सुविधा भी की है, जिसके माध्यम से आनलाइन ही मंजूरी मिल सकती है।
-दल या प्रत्याशी अग्रिम रूप से सुनिश्चित करेगा कि सभा के लिए प्रस्तावित स्थल पर कोई रोक या निषेधाज्ञा लागू तो नहीं है और यदि ऐसे आदेश मौजूद हैं तो उनका कड़ाई से पालन किया जाएगा। यदि ऐसे आदेशों से किसी रियायत की आवश्यकता हो तो अग्रिम रूप से इसके लिए आवेदन किया जाएगा और प्राप्त किया जाएगा।
-किसी प्रस्तावित सभा के संबंध में लाउड स्पीकरों या किसी अन्य सुविधा के उपयोग के लिए अनुमति के लिए दल या प्रत्याशी अग्रिम रूप से संबंधित प्राधिकरण के समक्ष आवेदन करेगा और यह अनुमति लेगा।
-सभा के आयोजक सभा में बाधा खड़ी करने वाले या अव्यवस्था पैदा करने का प्रयास करने वाले व्यक्तियों से निपटने के लिए ड्यूटी पर तैनात पुलिस की सहायता प्राप्त करेगा। आयोजक खुद ऐसे व्यक्तियों के झगड़ा या कोई कार्रवाई नहीं करेगा।
जुलूस में बरतें सावधानी:
जुलूस का आयोजन करने वाला दल या प्रत्याशी जुलूस शुरू करने का स्थान और समय, प्रयोग किए जाने वाले मार्गों और जुलूस समाप्त होने का स्थान और समय पहले से ही तय करेगा। साधारण तौर पर कार्यक्रम में कोई परिवर्तन नहीं होगा।
-आयोजक स्थानीय पुलिस प्राधिकारियों को कार्यक्रम की अग्रिम सूचना देंगे, ताकि स्थानीय पुलिस प्राधिकारी आवश्यक व्यवस्था कर सकें।
-आयोजक यह सुनिश्चित करेंगे कि जिन इलाकों से जुलूस निकालना है उन इलाकों में कोई प्रतिबन्ध आदेश लागू है तो प्रतिबन्ध आदेशों का पालन करेंगे। यदि सक्षम प्राधिकारी द्वारा विशेष रूप से रियायत नहीं दी गई है। यातायात संबंधी किन्हीं विनियमों या प्रतिबंधों का भी पालन किया जाएगा।
-आयोजक जुलूस निकालने के लिए अग्रिम रूप से व्यवस्था करने के लिए कदम उठाएंगे, ताकि यातायात में कोई रूकावट या बाधा नहीं आए। यदि जुलूस बहुत लंबा है तो इसे चौराहों पर कई हिस्सों में आयोजित किया जाएगा, ताकि जाम से बचा जा सके।
-जुलूस को सड़क के दाहिने तरफ  से निकाला जाए और ड्यूटी पर तैनात पुलिस के निर्देशों और सलाह का कड़ाई से पालन किया जाएगा।
-यदि दो या अधिक राजनीतिक दल या प्रत्याशी जुलूस को समान रास्तों या उसके किसी भाग से एक ही समय पर ले जाने का प्रस्ताव देते हैं तो आयोजक अग्रिम रूप से संपर्क करेंगे और अपनाएं जाने वाले उपायों के बारे में निर्णय लेंगे। संतोषजनक व्यवस्था के लिए स्थानीय पुलिस की सहायता ली जाएगी।
-राजनीतिक दल व प्रत्याशी जुलूस में भाग लेने वाले लोगों के पास ऐसी वस्तुएं मौजूद नहीं होनी चाहिए, जिनका अवांछनीय लोगों द्वारा विशेष रूप से उîोजना के पलों में दुरूपयोग किया जा सके।
-किसी भी राजनीतिक दल या प्रत्याशी द्वारा अन्य राजनीतिक दलों के सदस्यों या उनके नेताओं को निरूपित करने वाले पुतले ले जाने, जनता के बीच इन पुतलों को जलाने और इस तरह के अन्य प्रकार के प्रदर्शन का समर्थन नहीं किया जाएगा।

All Time Favorite

Categories