Home » ‘विज्ञान िर्ष’ के रुप में साल 2020
Exclusive Health

‘विज्ञान िर्ष’ के रुप में साल 2020

‘विज्ञान िर्ष’ के रुप में साल 2020

डॉ. हर्ष िर्षन

मानव जाति 2020 की शायद के वल एक ही घटना को याद करेगी और वह उस घािक
और अज्ञाि वायरस को जजसने दतुनया भर में कहर बरपाया, जजससे पन्‍द रह लाख लोगों
की मौि हो गई और अभूिपूवव आर्थवक िबाही हुई। इतिहास यह भी याद करेगा कक ककस
प्रकार ववज्ञान ने मनुष्य को बचाने का काम ककया और वैजववक सहयोग के साथ
अनुसंधान और ववकास पर ध् यान कै से केजन्‍दरि हुआ।
वर्व 2020 ‘ववज्ञान का वर्व’ रहा है जब कोववड-19 महामारी के अचानक हुए हमले के
कारण उत् पन्‍द न तनराशा के बीच इंसातनयि का श्रेष् ठ पहलूददखाई ददया। यह ररकॉडव करने
लायक हैकक जैसे-जैसेबीमारी िेजी से फै लिी गई, वैसे-वैसे इसेकम करनेके ललए शोध
के प्रयास शुरू हुए। प्रमुख वैजववक सहयोग स्थावपि ककए गए िाकक वैज्ञातनक अपनी
ववशेर्ज्ञिा को साझा कर सकें। सुरक्षा के साथ समझौिा ककए बबना नैदातनक परीक्षणों
को गति देने के ललए योजनाएं लागूकी गईं िाकक उपचार, टीके और तनदान िेजी से हो
सके। इस सारे काम के ललए, सरकारें, व्यवसाय और परोपकारी संगठन एकजुट हो गए
और संसाधनों की मदद से काम शुरू कर ददया। यही कारण है कक मैंकहिा हूं कक यह
के वल ववज्ञान नहीं हैजो इस वर्व उल्लेखनीय रहा है, बजल्क अंिरावष्रीय सहयोग भी है।
वास्िव में, दतुनया भर के वैज्ञातनकों की समपवण की भावना प्रशंसनीय रही है, न के वल
लोगों के जीवन की डोर उनके हाथ में थी जजसे बचाने के ललए उन्‍द होंने भरसक प्रयास
ककया बजल्क इस कायव को अभूिपूवव गति से ककया। मैंकोववड-19 अनुसंधान प्रतिकिया
का समथवन करने वाले और हमें गौरवाजन्‍दवि करने वाले प्रत्येक संगठन की सराहना
करिा हूं।
इस महामारी की सबसे बडी सफलिा टीम वकव और वैज्ञातनक समुदाय रहा जजसने
व् यजतिगि पहचान हालसल करने की होड में न पडिे हुए निीजों को अंजाम िक
पहुंचाया। वैज्ञातनकों और संगठनों ने वास्िव में एक साथवक लक्ष्य हालसल करने पर
ध्यान के जन्‍द रि ककया, चाहे वह देश भर में, एक महाद्वीप में या दतुनया भर के ललए
रहा हो।

 

महामारी के दौरान, वैज्ञातनकों ने ददखा ददया है कक हम ककसी भी गति से काम कर
सकिे हैं, अपनी नैदातनक और देखभाल की गुणवत्ता को बनाए रख सकिे हैं, इस िरह
का आत्मववववास और ववववास पैदा कर सकिे हैंकक गति का मिलब गुणवत्ता से
समझौिा नहीं है।
मेरा व्यजतिगि रूप से हमेशा मानना रहा है कक ववज्ञान और स्वास््य सेवा पर हमारे
सहयोग का लाभ सभी को समान रुप से देने की आववयकिा है। हमें इसे दतुनया में
हर ककसी िक पहुंचाना चादहए, और एक समान दतुनया बनानी चादहए। वववव स्वास््य
संगठन के कायवकारी बोडव के अध्यक्ष के रूप में, मैंइस बारे में देशों, फं डड ंग एजेंलसयों,
वैज्ञातनकों और परोपकारी लोगों से बाि कर रहा हूं। सभी की प्रतिबद्धिा है और मैं
इसे 2020 के सबसे महत् वपूणव निीजों में से एक मानिा हूं।
महामारी के पररप्रेक्ष्य में, एक बार कफर यह इस बाि का प्रिीक है कक ववज्ञान समुदाय
ने सामाजजक समस्याओं को दरू करनेके ललए लगािार और अथक प्रयास ककए हैं। यह
कहना अतिवयोजति नहीं होगी कक वपछलेसाढे छह वर्ों में हमारी सरकार नेजो ववकास
संबंधी कायव ककए हैं, वह हमारे वैज्ञातनकों, प्रौद्योर्गकी ववशेर्ज्ञों और नवप्रविवकों द्वारा
ककए गए प्रयासों का प्रिीक है। 2015 से इंडडया इंटरनेशनल साइंस फे जस्टवल
(आईआईएसएफ) आयोजजि करने का प्रयास वास्िव में इस पहलूकी सराहना करने के
ललए ही ककया गया है।
आईआईएसएफ का उद्देवय जनिा को ववज्ञान से जोडना और यह ददखाना है कक
ववज्ञान, प्रौद्योर्गकी, इंजीतनयररंग और गणणि (एसटीईएम) ककस प्रकार हमें अपनेजीवन
की गुणवत्ता में सुधार करने के ललए समाधान प्रदान करिे हैं। ववज्ञान और प्रौद्योर्गकी
मंत्रालय, प्ृवी ववज्ञान मंत्रालय, ववज्ञान भारिी (वीआईबीएचए) के सहयोग से
आईआईएसएफ नाम का यह अनूठा मंच बनाया है जो जजज्ञासा को प्रेररि करने और
ववज्ञान के अध् ययन को अर्धक लाभप्रद करने का इरादा रखिा है।
महोत्सव का उद्देवय ववशेर् रूप से छात्र समुदाय िक पहुंच बनाना है िाकक उनकी
वैज्ञातनक भावना को जागिृ ककया जा सके । एक छोटी सी घटना के रूप में शुरू ककया
गया, महोत् सव अब छात्रों, वैज्ञातनकों, लशक्षाववदों, मीडडया और आम जनिा को शालमल
करिे हुए एक बहुप्रिीक्षक्षि वावर्वक वैज्ञातनक समागम में िब् दील हो गया है।

आईआईएसएफ समाज के सभी वगों और ववववध पष्ृठभूलम सेआने वाले लोगों के ललए
खुला मंच है जो जीवन के सभी क्षेत्रों में ववज्ञान की गतिववर्धयों, उपलजब्धयों और
नवाचारों का अनुभव और आनंद लेना चाहिे हैं।
मुझे यह देखकर खुशी हुई कक आईआईएसएफ का हर संस्करण बडा और बेहिर होिा
जा रहा हैऔर बडी संख्या में लोगों को आकवर्वि कर रहा है। कायविम ववज्ञान के एक
उत्सुकिा से प्रिीक्षक्षि उत्सव के रूप में उभरा है। आईआईएसएफ में वैज्ञातनक घटनाओं
ने वैजववक ररकॉडव िोड ददए हैंजजन्‍द हें प्रतिजष्ठि र्गनीज बुक ऑफ वल्डव ररकॉडव के पन्‍दनों
में दजव ककया गया है।
आईआईएसएफ इस वर्व वचुअव ली 22 ददसम् बर से 25 ददसम् बर िक मनाया जा रहा है।
वैज्ञातनक और औद्योर्गक अनुसंधान पररर्द (सीएसआईआर), अपने राष्रीय ववज्ञान,
प्रौद्योर्गकी और ववकास अध्ययन संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस) के
माध्यम से इस जबरदस् ि वचुअव ल कायविम का आयोजन कर रहा है।
आईआईएसएफ 2020 का ववर्य “साइंस फॉर सैल् फ-ररलायंट इंडडया एंड ग् लोबल
वेलफे अर” है, जो वैजववक स्िर पर अच्छा योगदान दे सकने वाले आत्मतनभवर भारि के
तनमावण के ललए माननीय प्रधानमंत्री के आह्वान पर आधाररि है।
इस चार ददवसीय ववज्ञान महोत्सव का उद्देवय वैजववक स् िर पर अन्‍द य देशों को आकवर्वि
करने के ललए देश की िाकि को मजबूिी देना और उसका ववस् िार करना है।
आईआईएसएफ 2020 में युवाओं और नये नये अववष्कार करने वालों को आकवर्वि
करनेके ललए एसटीईएम लशक्षा को कवर करने वाले 41 ववलभन्‍दन कायविमों को शालमल
ककया गया है।
अगर 2020 कोववड-19 के टीके की खोज का वर्व रहा है, िो 2021 वह वर्व होगा जब
हम इसे दतुनया भर में ऐसे लोगों िक पहुुँचाने की चुनौिी का सामना करेंगे जजन्‍दहें
इसकी सबसे अर्धक आववयकिा है।
आइए, इस आईआईएसएफ 2020 में हम विवमान महामारी को समाप्ि करने की अपनी
प्रतिबद्धिा को एक बार कफर दोगुना करें और सहयोग को और बढाएं िाकक ववज्ञान
को जीवन रक्षक बनाना संभव हो सके ।

वर्व 2020 ववनाश के साथ, एक महान वैज्ञातनक सफलिा की कहानी लेकर आया। मेरे
ललए महत् वपूणव यह हैकक सबसे पहले वैज्ञातनकों ने ही आगे बढकर इस गंभीर मानवीय
खिरे का सामना ककया। एक ही समय में, सभी तनम्न और मध्यम-आय वाले देशों को
सुरक्षक्षि और प्रभावी कोववड-19 जांच, उपचार और टीके की पहुंच सुतनजवचि करना
प्रमुख चुनौिी है।
इस वर्व जजन वैज्ञातनकों ने टीके, जांच और उपचार के ललए अपना सब कुछ दे ददया,
उनके कायों की उच् च स् वर में सराहना और उन्‍द हें एक बडा धन्‍दयवाद!

लेखक डॉ. हर्व वधवन के न्‍द रीय ववज्ञान और प्रोद्योर्गकी, प्ृवी ववज्ञान, स् वास् ् य और

पररवार कल् याण मंत्री हैं। .

All Time Favorite

Categories