Home » मित्रता
Entertainment

मित्रता

मित्रता

दिल से बातें करता है जो
और करे  न तकरार कभी
दोस्त वही  होता है सच्चा
जो माने  ही न  हार कभी।

खिले फूल सा उसका चेहरा
हरदम  मुस्कुराता  रहता है
शीतल निर्मल गंगा जल सा
पानी  नदियाँ का  बहता है।

बिन कीमत बिन मोल मिले
यह सबसे  अनमोल है हीरा
सबसे धनी  बना धरती पर
जो था ख़ाली जेब फ़क़ीरा।

जात धर्म और भेदभाव बिन
दिल से दिल को है मिलता
एक एहसास है नूर  इलाही
जो दिल के  अंदर खिलता।

सूरज चंदा गगन और तारे
नदियां पर्वत है  प्रिय बहुत
ये सब हैं मुझे जान से प्यारे
सच्चे  न्यारे  हमदम दोस्त।

कमल
जालंधर(पंजाब)

All Time Favorite

Categories