Home » मकर संक्रांति पर्व पर प्रसाद वितरण किया
Hindi News

मकर संक्रांति पर्व पर प्रसाद वितरण किया

मकर संक्रांति पर्व पर प्रसाद वितरण किया नारनौल,14 जनवरी ,2021: मकर संक्रांति के पावन पर्व पर शहर में कई बाजारों में दुकानदारों ने मकर संक्रंति का प्रसाद वितरित किया। तालाब बहादूर सिंह स्थित महावीर कम्पलैक्स परिसर में शांति देवी मंगत राम अग्रवाल धमार्थ ट्रस्ट नारनौल के द्वारा प्रसाद वितरण किया गया। अग्रवाल सभा के पूर्व प्रधान रतन लाल अग्रवाल चिम्मन व वार्ड पार्षद पकुंश अग्रवाल तथा पदाधिकारियों व सदस्यों ने सुबह सूर्य भगवान की पूजा अर्चना की तथा आरती के बाद भोग लगाने के बाद प्रसाद वितरण किया गया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मकर संक्रंाति का पर्व पर दान करने का विशेष दिन है। गरीब, असहाय, पीडि़त व्यक्ति की सहायता करने से भगवान की मनुष्य पर हमेशा कृपा बनी रहती है। प्रसाद वितरण कार्यक्रम सुबह 8 बजे से देेर शाम तक किया गया। जिसमें देशी घी का हलवा, कचोरी व सब्जी का प्रसाद था। जिसमें काफी लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया।

***           ***         ***        ***

मकर संक्रांति पर दाल-चूरमा रहा सबकी पसंद, क्षेत्र में घर-घर बनाया गया विशेष व्यंजन

संक्रांति का पर्व हो और चूरमा न बने तो त्यौहार जैसे फीका रह जाता है। हरियाणा के सबसे दक्षिणी छोर पर बसे जिला महेन्द्रगढ ही नहीं अपितु दूसरे जिलों में भी वैसे तो चूरमा त्यौहारों पर बनाया जाने वाला खास आहार हैए लेकिन आज मकर संक्रांति पर एक बार फिर चूरमा सबकी पंसद रहा और घर-घर में लोगों ने चूरमा व बाटी बनाई। पोष्टिक आहार माना जाने वाला चूरमा ही प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है। हरियाणा के पड़ोसी राज्य राजस्थान में प्रमुख आहार के रूप में प्रयोग किया जाने वाला चूरमा देश के विभिन्न प्रदेशों में चूरमा मलीदाए खाजा व बाटी इत्यादि के नाम से जाना जाता है। लेकिन राजस्थान व हरियाणा में इसे जितना मान.सम्मान मिला हैए वैसा शायद किसी और राज्य से मिला हो। राजस्थान व हरियाणा के ग्रामीण व शहरी इलाके में धूम मचाने वाले चूरमा बड़े-बड़े पांच सितारा होटलों में भी विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। दाल-बाटी, दाल-चूरमा, खीर-चूरमा के स्वादिष्ट मेल के साथ इसका जायका इसकी लोकप्रियता का मुख्य कारण है। जिस कारण पर्यटकों के भ्रमण के दौरान यदि वे चूरमा का स्वाद न लें तो उनकी यात्रा जैसे अधूरी ही रह जाती है। राजस्थान से तीन ओर से घिरे इस क्षेत्र में रोटी.बेटी के रिश्ते के चलते दोनों राज्यों की सभ्यताए रीति. रिवाजए खान-पान व व्यवहार काफी मेल जोल वाले हैं। एक.दूसरे की संस्कृति का भी इसका व्यापक असर है। जिनमें चूरमा भी शामिल है। घर-परिवार में कोई उत्सव होए तीज-त्यौहार हो या फिर कोई धार्मिक अनुष्ठान यदि इस मौके पर चूरमा नहीं बनता तो ऐसे उत्सव फीका लगता है। अनुष्ठानों के अवसर पर सवा मन आटे से बनाया जाने वाला चूरमा प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। चूरमा केवल स्वादिष्ट ही नहीं अपितु पौष्टिक भी माना जाता है। पेट भर चूरमा खाने के बाद किसी अन्य पकवान के खाने की इच्छा ही नहीं रहती। अपने इस खास गुण के कारण चूरमा का दूसरे व्यंजनों पर प्रभुत्व बना हुआ है। कमला देवी, अनारो देवी, शकुन्तला आदि महिलाओं का कहना है कि चूरमा हर व्रत व तीज.त्यौहारों के अलावा सक्रांति पर चूरमा विशेष तौर पर बनाया जाता है। उन्होंने कहा कि चूरमा हमारी पुरानी सभ्यता से ही प्रमुख आहार के रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। आज भी यह हमारी संस्कृति का हिस्सा बना हुआ है। उन्होंने बताया कि चूरमा बनाने में भी काफी आसान है। इसे बनाने के लिए रसोई, की बजाय परिवार के कुछ लोग मिलकर इसे बना सकते हैं। आटे को दूध में गूथ कर इसकी रोटियां सेकी जाती हैं। जिन्हें कूटकर इसमें पर्याप्त मात्रा खांड मिला कर इसे तैयार किया जाता है।

***      ***     ***     ***    ***

मंकर संक्रंति पर जरूरतमंद लोगों को कंबल वितरित किए

मकर सक्रांति के अवसर पर रोटरी क्लब नारनौल सिटी ने महावीर चौक पर 150 जरूरतमंद लोगों को कंबल वितरित किए। सामाजिक सरोकार के कार्यों में सदैव अग्रणी रहने वाले रोटरी क्लब के प्रधान एडवोकेट राजकुमार यादव ने बताया कि आज भी बहुत से लोग समाज में ऐसे हैं, जो कि इस ठिठुरती ठंड में भी अभाव में जीवन व्यतीत करने को मजबूर रहते हैं। इस कड़ाके की सर्दी में ऐसे लोगों को सर्दी से बचाव के लिए गर्म वस्त्र व कम्बल इत्यादि देकर उन्हे ठंड से बचाना महान पुण्य कर्म है। उन्होंने कहा कि आजकल अनेक संस्थाएं इस बारे में कार्य कर रही हैं और हम सभी को भी अधिक से अधिक ऐसे लोगों की मदद करनी चाहिए। क्योंकि हमारे छोटे से योगदान से अगर किसी असहाय जरूरतमंद की सहायता हो सकती है तो इससे बढक़र पुण्य का कार्य और कुछ नहीं हो सकता। रोटरी क्लब ऐसे ही लोगों की सहायतार्थ रोटरी रसोई के माध्यम से 10 में भोजन भी उपलब्ध करवा रहा है। इस अवसर पर रोटरी के असिस्टेंट गर्वनर प्रवीण संघी, एडवोकेट राजकुमार यादव, पूर्व प्रधान संजय गर्ग, पारस चौधरी, नवीन गुप्ता, विनय मित्तल, राजकुमार चौधरी व हितेन्द्र शर्मा आदि उपस्थित थे।(   बी.एल. वर्मा).

All Time Favorite

Categories