Home » प्रकाश
Entertainment

प्रकाश

प्रकाश
प्रकाश
सूरज के उज्जवल प्रकाश से
खिल जाते उपवन के पुष्प
भँवरे गुंजन करते उन पर
इतराते मन के अनुरूप
खिली धूप में निखरा जाए
अनुपम रूप सुहाना उनका
अंगड़ाई भरते मतवाले
मुस्काए सब के स्वरूप।
गयी कालिमा हुआ प्रकाश
भय का साया चला गया
धवल प्रकाश से चमके अवनि
सारा गुलशन जगमगा गया
सारी सृष्टि अपने ढंग से
व्यस्त प्रतीत सी होती
दिनकर की सुनहरी किरणों से
धरा का मुख चमचमा गया।
सत्यता के उज्जवल प्रकाश से
अंतर्मन सब उजला हो जाए
बैर द्वेष नफरत और हिंसा
धूल धूसरित हो जाए
मन का शीशा सदा ही रखना
निर्मल शीतल गंगा सा
जो देखे वो तुमको चाहे
सुध बुध अपनी खो जाए।
प्रकाश  कमल भास्कर 

About the author

SK Vyas

39 Comments

Click here to post a comment