Home »  पुष्प
Hindi Hindi News

 पुष्प

                                          पुष्प

 पुष्प
खिल जाएगा ये चेहरा महके गुलाब सा
थोडा निकाल वक्त और तू मेरे पास आ।

तूँ देखता ही रह जाएगा मुझको करीब से

मिलता हूँ मैं  किसी को  बड़े ही नसीब से।

कांटों के संग भी मेरा कोई नहीं तकरार
दिल ही दिल मुझको करते हैं यही प्यार।

तुम भी किसी पुष्प से लगते नहीं कमतर,
टीका लगाना  काला लग जाए ना नजर।

नजराना  कर रहा हूं पुष्पों  का बना हार,
खुशबू सा छिपा बैठा है इसमें मेरा प्यार।

तुम दो अगर इजाजत पहना  दूं गले में
बस रहमत-ए-मुस्कान दे देना बदले में।

मेरी तरह से एक दिन खिल कर तो देख
खुशियों का राज़ पूछेंगे तेरे दोस्त अनेक।

 पुष्प कमल
जालंधर

All Time Favorite

Categories