Home » पुलिस ने एटीएम कार्ड से धोखाधड़ी की घटनाओं पर एडवाइजरी जारी की
Hindi News News

पुलिस ने एटीएम कार्ड से धोखाधड़ी की घटनाओं पर एडवाइजरी जारी की

पुलिस ने एटीएम कार्ड से धोखाधड़ी की घटनाओं पर एडवाइजरी जारी की
पुलिस अधीक्षक चन्द्र मोहन।

नारनौल,2दिसम्बर,2020:  जिला में आए दिन एटीएम कार्ड से धोखाधड़ी की घटनाएं बढ़ती जा रही है। पुलिस मुख्यालय पंचकुला ने सभी जिलों के पुलिस अधीक्षक को एडवाइजरी जारी की है। जिला पुलिस अधीक्षक चन्द्र मोहन ने लोगों को धोखाधड़ी होने वाले तरीकों से अवगत कराया और धोखाधड़ी से बचने के उपाय बताए। एटीएम कार्ड से जितनी सुविधाएं मिलती हैं, उतना ही सावधानी बरतने की जरूरत होती है। क्योंकि जरा सी लापरवाही होने पर बड़ा नुकसान भी हो सकता है। इन दिनों कार्ड स्वैपिंग, स्कीमिंग व अन्य तरीकों के जरिए जालसाज आपके एटीएम कार्ड तक अपनी पहुंच बना लेते हैं, जिसके बाद आपको काफी आसान तरीके से वे ठगते है। इसलिए एटीएम से पैसे निकालते वक्त और कार्ड से पेमेंट करते वक्त आपको सावधानी बरतने की जरूरत है।
इस प्रकार से की जा सकती है धोखाधड़ी:
-डेबिट कार्ड के ब्यौरे की चोरी को एटीएम स्किमिंग कहते हैं। इसके लिए एटीएम की-पैड के पास डिवाइस लगा दी जाती है। कार्ड को मशीन में डालते ही मैग्नेटिक पट्टी पर दर्ज ब्यौरा और पासवर्ड डिवाइस में रिकार्ड हो जाता है। इस तरह डाटा चोरी कर आनलाइन खरीदी या खाते से पैसा ट्रांसफर कर पैसा निकल जाता है।
-कार्ड स्किमिंग के अलावा, धोखेबाजों द्वारा एटीएम कार्ड उपयोगकर्ताओं को लूटने के लिए उपयोग की जाने वाली एक और विधि है, जो एटीएम कार्ड स्वैपिंग है। इस धोखाधड़ी में चोर आपके मूल एटीएम कार्ड को डमी के साथ बदल देता है और पैसे निकाल लेता है।
-कार्ड स्वीकृति स्लाट में फिट होते हैं और इसमें एक रेजर-एडेड स्प्रिंग ट्रैप शामिल होता है, जो ग्राहक के कार्ड को लेनदेन पूरा होने पर एटीएम से बाहर निकालने से रोकता है। ये डिवाइस उपयोगकर्ता द्वारा नकदी निकालने के बाद एटीएम उपयोगकर्ता के कार्ड पर कब्जा करने के लिए बनाए गए थे।
-कैश फंसना कई प्रकार के एटीएम धोखाधड़ी में से एक है और यह हमेशा के लिए हाजिर नहीं होता है। अपराधी एटीएम से छेड़छाड़ करेंगे, जिससे ग्राहकों को पैसे निकालने से रोका जा सकेगा और ऐसा प्रतीत होगा जैसे मशीन बस सेवा से बाहर हो गई है।
इन बातों का रखें ख्याल:
-जब भी एटीएम कार्ड से रुपये निकालने जाएं, एटीएम मशीन में कैमरे को तलाश करने की कोशिश करें।
-जहां कार्ड स्वैप किया जाता है उस जगह को हिलाकर देखें। यदि वहां कैमरा लगा होगा तो वह खुद निकल आएगा।
-लेन-देन की जानकारी के लिए अपने मोबाइल पर एसएमएस अलर्ट सेवा लें।
-हमेशा अपना पिन कोड याद रखें। उसे लिखकर या फिर साथ लेकर न चलें।
-एटीएम पिन के लिए अपनी जन्मतिथि या गाड़ी के नंबर का इस्तेमाल न करें।
-एटीएम से बाहर निकलने से पहले एक बार क्लियर बटन जरूर दबाएं।
-लेनदेन की रसीद अपने पास रखें। उसे एटीएम के पास फेंककर न जाएं।
-नकदी निकलने के बाद एटीएम के सामने खड़े होकर पैसा न गिनें।
-पिन दर्ज करते समय एटीएम के नजदीक खड़े रहे। हाथ से की-पैड को ढक लें।
एटीएम से पैसे निकालते वक्त रहें सावधान:
जिस जगह पर आप अपना कार्ड डालते हैं, वहां चेक कीजिए कि स्लाट के ऊपर कोई दूसरी चीज अलग से तो नहीं लगी है। स्कीमर देखने में मशीन का हिस्सा ही लगती है। आसपास की दीवारों और की बोर्ड के आसपास देखें कि वहां कहीं कोई कैमरा तो नहीं लगा है। अगर किसी भी मशीन पर जरा भी शक हो तो उसका इस्तेमाल न करें और बैंक या वहां मौजूद किसी कर्मचारी को जरूर बताएं।
पेमेंट करते समय ध्यान दें:
एटीएम से पैसा निकालते वक्त किसी को अपने आसपास न खड़ा होने दें। क्योंकि यह भी हो सकता है कि आपके पीछे खड़ा शख्स ही आपका एटीएम पिन देखकर आपको वेबकूफ  बना दें। इसलिए एटीएम में कोई अन्य शख्स हो या नहीं आपको हमेशा दूसरे हाथ से की-बोर्ड को कवर करके पिन डालना चाहिए। इस बात का भी ध्यान दें कि किसी शाप, माल या अन्य जगह पर अगर आप कार्ड से पेमेंट करते हैं तो भी सावधान होने की जरूरत है। किसी अन्य व्यक्ति को अपना कार्ड स्वाइप करने के लिए नहीं दें। हमेशा अपने कार्ड को अपने सामने ही स्वाइप करवाएं और खुद ही पासवर्ड डालें।( बी.एल. वर्मा ).

All Time Favorite

Categories