Home » नीति आयोग ने आईएफपीआरआई, आईआईपीएस, यूनिसेफ और आईईजी के साथ संयुक्त प्रयास में 19 राज्यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के लिए ‘द स्टेट न्यूट्रिशन प्रोफाइल’ लॉन्च किया
Hindi News News

नीति आयोग ने आईएफपीआरआई, आईआईपीएस, यूनिसेफ और आईईजी के साथ संयुक्त प्रयास में 19 राज्यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के लिए ‘द स्टेट न्यूट्रिशन प्रोफाइल’ लॉन्च किया

तिथि: : 01 अक्टूबर 2021:नीति आयोग ने अंतर्राष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान (आईएफपीआरआई), भारतीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान (आईआईपीएस), यूनिसेफ और आर्थिक विकास संस्थान (आईईजी) के साथ संयुक्त प्रयास में 30 सितम्‍बर, 2021 को 19 राज्यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों के लिए ‘द स्टेट न्यूट्रिशन प्रोफाइल’ लॉन्च किया। ये राज्‍य पोषण प्रोफाइल  नीति आयोग के अपर सचिव डॉ. राकेश सरवाल ने आईएफपीआरआई द्वारा आयोजित ‘भारत में पोषण की दिशा में प्रगति : राष्‍ट्रीय परिवार स्‍वास्‍थ्‍य सर्वेक्षण (चरण-1) से परिज्ञान’ नामक वेबिनार में जारी की।

द स्टेट न्यूट्रिशन प्रोफाइल (एसएनपी), एनएफएचएस राउंड 3, 4 और 5 पर आधारित पोषण परिणामों, तुरंत और अंतर्निहित निर्धारकों एवं उपायों के बारे में पूरी जानकारी देते हैं। एसएनपी में महत्‍वपूर्ण डेटा का व्‍यापक संकलन शामिल है जो नीतिगत निर्णयों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है और क्षेत्र में अनुसंधान की सुविधा भी प्रदान कर सकता है। वेस्टिंग, स्टंटिंग, एनीमिया, कम वजन और अधिक वजन तथा एनसीडी (डायबिटीज, उच्च रक्तचाप) और उच्‍च रक्‍तचाप जैसे प्रमुख संकेतकों का रुझान विश्‍लेषण जिलों में प्रदर्शन की परिवर्तनशीलता को दर्शाता है। इन रिपोर्ट में सबसे अच्‍छा और सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों सबसे अधिक भार वाले जिलों और सबसे अच्‍छे कवरेज वाले जिलों के बारे में उल्‍लेख किया गया है। एसएनपी पूर्ण गणना के आधार पर किए गए विश्लेषण पर आधारित हैं और इनमें साक्ष्‍य उपलब्‍ध कराने के लिए एनएफएचएस-5 से डेटा का उपयोग किया गया है, जो विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशा-निर्देशों के अनुसार सार्वजनिक स्वास्थ्य के चिंता वाले राज्य में प्राथमिकता वाले जिलों और अन्‍य जिलों की संख्या की पहचान करने में मदद करता है। प्रत्येक एसएनपी में बच्चों, महिलाओं और पुरुषों के लिए महत्वपूर्ण बातों को शामिल किया गया है और इनमें ऐसे क्षेत्रों की पहचान की है जहां राज्य में और सुधार करने की क्षमता है।

स्वास्थ्य और पोषण परिणामों और निर्धारकों के बारे में एनएफएचएस-5 के विश्लेषण पर दी गई प्रस्‍तुतियां प्रख्यात वक्ताओं (दिव्या नायर, आईडीइनसाइट; दिविज सिन्हा, इंस्‍टीट्यूट फॉर ह्यूमन सेटेलमेंट्स; शीला वीर, सार्वजनिक स्वास्थ्य पोषण और विकास केन्‍द्र और रश्मि अवुला, आईएफपीआरआई; एस. के. सिंह आईआईपीएस;  रॉबर्ट जॉनसन, यूनिसेफ; विलियम जो आईईजी) और भागीदार संगठनों ने तैयार की हैं। इस वेबिनार में विभिन्न संगठनों के 200 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। एसएनपी http://poshan.ifpri.info/category/publications/data-notes/ पर उपलब्ध हैं।

By: Madhur Vyas

All Time Favorite

Categories