Home » दिव्यांगजन पेंशन योजना हरियाणा सरकार जिला के 6146 लाभार्थियों को दे रही दिव्यांगजन पेंशन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से मिलते हैं 2500 रुपए प्रतिमाह
Hindi News

दिव्यांगजन पेंशन योजना हरियाणा सरकार जिला के 6146 लाभार्थियों को दे रही दिव्यांगजन पेंशन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से मिलते हैं 2500 रुपए प्रतिमाह

नारनौल 2 सितंबर। दिव्यांग जनों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए हरियाणा सरकार सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के माध्यम से दिव्यांगजन पेंशन के रूप में 2500 रुपए प्रतिमाह दे रही है। जिला महेंद्रगढ़ में 6146 लाभार्थी इस योजना का लाभ उठा रहे हैं।

यह जानकारी देते हुए उपायुक्त अजय कुमार ने बताया कि इस योजना का उद्देश्य उन दिव्यांगजन को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना है जो अपने साधनों से आजीविका कमाने में असमर्थ हों।

उन्होंने बताया कि इस योजना के लिए लाभार्थी को हरियाणा का निवासी होना चाहिए तथा उसे इस योजना के तहत आवेदन करना होता है।

आवेदन के लिए प्रार्थी नागरिकों को किसी भी सीएससी केंद्र या अंत्योदय सरल केंद्र में जाकर अपनी फैमिली आईडी बनवा कर उसके साथ मेडिकल बोर्ड का प्रमाण पत्र, आयु प्रमाण पत्र, राशन कार्ड, आधार कार्ड पहचान पत्र और अपनी खुद की फोटो ले जाकर ऑनलाइन आवेदन करवाना होगा। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद खुद के हस्ताक्षर व सरपंच से तस्दीक करवा कर दोबारा से फार्म अपलोड करवाना होगा। उसके बाद फार्म के साथ सभी दस्तावेज लगाकर डीएसडब्ल्यूओ कार्यालय में जमा करवाना होगा।

विभाग द्वारा अगर लाभार्थी सभी प्रकार की शर्तें पूरी करता है तो उसे प्रतिमाह पेंशन के रूप में 2500 रुपए  की आर्थिक सहायता संबंधित एजेंसी बैंक या पोस्ट ऑफिस के माध्यम से दिया जाएगा।

बॉक्स

दिव्यांगजन पेंशन योजना के लिए ये हैं पात्रता मानदण्ड

नारनौल। जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित शर्मा ने बताया कि इस योजना के लिए लाभार्थी की आयु 18 वर्ष या इससे अधिक होनी चाहिए। हरियाणा का अधिवासी एवं आवेदन फार्म प्रस्तुत करने के 3 वर्ष पूर्व से हरियाणा राज्य में निवासी होना चाहिए। उसकी खुद की सभी साधनों से मासिक आय श्रम विभाग द्वारा निर्धारित अकुशल मजदूर की न्यूनतम मजदूरी से अधिक नहीं होनी चाहिए।

कौन होता है दिव्यांगजन

नारनौल। जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित शर्मा ने बताया कि जो नागरिक 60 से 100 प्रतिशत निःशक्त हो। नेत्रहीन हो। कम दृष्टि, कुष्ठ, ठीक सुनने में परेशानी, लोकोमोटर विकलांगता, मानसिक मंदता व मानसिक बीमारी वाला व्यक्ति दिव्यांगजन होता है तथा वह सामाजिक सुरक्षा लाभ के लिए योग्य है।

About the author

S.K. Vyas

Add Comment

Click here to post a comment

Most Read

All Time Favorite

Categories