Hindi News

डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी दुर्घटना सहायता योजना

डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी दुर्घटना सहायता योजना -सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने बांटे एक करोड़ के स्वीकृति पत्र
-पेंशन के लिए बड़े गांवों में लगाए जाएंगे शिविर: ओमप्रकाश यादव

नारनौल,14 जनवरी,2020: सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ओमप्रकाश यादव ने कहा कि राज्य सरकार लोगों को उनके घर-द्वार के नजदीक सभी प्रकार की योजनाओं का लाभ देने को दृढ़ संकल्प है। विभाग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने में लोगों को मुख्यालय के चक्कर न लगाने पड़ें इसके लिए खंड स्तर या 7-8 गांवों के बीच कैंप लगाकर उनकी पेंशन के लिए फार्म भरवाए जाएंंगे।
श्री यादव मंगलवार को डीआरडीए हॉल में डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी दुर्घटना सहायता योजना के स्वीकृति पत्र वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने 100 लाभार्थियों को एक करोड़ रुपए के स्वीकृति पत्र प्रदान किए गए जिनकी राशि एक सप्ताह के अंदर-अंदर उनके खाते में डाल दी जाएगी।
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि प्रदेश के लोग उनके गांवों में चलाए जा रहे सीएससी सेंटर व अटल केंद्रों पर जाकर समाज कल्याण से जुड़ी सभी योजनाओं के लिए आवेदन करें। इसके अलावा राज्य सरकार ने तहसील, खंड व जिला स्तर पर सरल अंत्योदय केंद्र स्थापित किए हुए हैं। उन केंद्रों पर जाकर आवेदन करें। अब सरकार की सभी योजनाओं के लिए आवेदन आनलाइन किए जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि दुर्घटना किसी के साथ भी हो सकती है। बहुत बड़ा आघात व दुख उस परिवार को होता है। जिस परिवार में ये हादसा होता है तो वह परिवार काफी पीछे चला जाता है। इस दुख को कोई कम नहीं कर सकता, लेकिन सरकार की मंशा है कि ऐसे लोगों को ये आर्थिक सहायता देकर उनके परिवार को थोड़ा सहारा दिया जाए। सरकार द्वारा दी गई इस राशि को बहुत ही संभालकर अपने बच्चों की पढ़ाई आदि के लिए प्रयोग करें।
देश में नागरिक संशोधन कानून पर बोलते हुए श्री यादव ने कहा कि इस कानून का विरोध करने वाले राष्टï्र के दुश्मन हैं। यह कानून किसी की नागरिकता को छीनने वाला नहीं है। यह केवल धर्म के नाम पर प्रताडि़त लोगों को देश में आश्रय देने के लिए है। विपक्ष इस मामले में बिना वजह अपनी राजनीतिक रोटियां सेक रहा है।
इस मौके पर उपायुक्त जगदीश शर्मा, जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित शर्मा, रोहताश, एडवोकेट राजकुमार, वैद्य किशन वशिष्टï, सुरेंद्र, बहादुर, कैलाश, बहादुर सत्यारायण बोहरा के अलावा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।
नागरिक की अप्राकृतिक मौत पर दी जाती है एक लाख रुपए की सहायता:
समाज कल्याण विभाग की ओर से डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी दुर्घटना सहायता योजना के स्वीकृति पत्र वितरण समारोह में जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित शर्मा ने इस योजना की जानकारी देते हुए बताया कि इसमें किसी भी नागरिक की अप्राकृतिक मौत होने पर एक लाख रुपए की सहायता राशि दी जाती है। इसके लिए सबसे जरूरी है कि पोस्टमार्टम व एफआईआर की रिपोर्ट होनी चाहिए। कई बार बिना पोस्टमार्टम के नागरिक आवेदन करते हैं जिस कारण आवेदन रद्द हो जाता है। उन्होंने कहा कि पहले इस योजना के तहत 18 से 60 आयु वर्ग के नागरिक इसमें शामिल थे लेकिन अब सरकार ने इसमें बदलाव करते हुए 18 से 70 वर्ष कर दिया है। इसमें प्रभावित की आय की अब कोई सीमा नहीं रही है। अप्राकृतिक मौत होने पर उसके परिजन इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। यह आवेदन गांवों में स्थित सीएससी व अटल सेवा केंद्र, खंड, तहसील व जिला स्तर पर बनाए गए अंत्योदय सरल केंद्रों पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

बी.एल. वर्मा द्वारा

All Time Favorite

Categories