Home » जगा रहूं ——डॉ एम डी सिंह
Entertainment

जगा रहूं ——डॉ एम डी सिंह

जगा रहूं ——डॉ एम डी सिंह
मेरे जख्मों पर मरहम नहीं
नमक छिड़क
कि चीखता रहूं
दर्द से बिलबिलाता रहूं
कि कहीं सो न जाऊं
जगा रहूं
जगा रहूं
कि वर्तमान मुझे मरा न समझ ले
कि इतिहास कहीं कायर ना लिख दे
मेरी छाती में वरछियां घोप
आँखों में उंगलियां डाल
जला दे दिमाग को अलाव की तरह
कि मेरे सीने में सहानुभूति न रहे
कि मेरी आंखों में दया न बचे
कि मेरे मस्तिष्क में प्रतिशोध की ज्वाला
बर्फ की तरह ठंडी न पड़े
और मैं
तुझे काल के मुंह में जाते देख
अट्टहास करने के लिए
जगा रहूं ।
••••••••••••••••••डॉ एम डी सिंह

About the author

S.K. Vyas

2 Comments

Click here to post a comment

Most Read

All Time Favorite

Categories

RSS Tech Update

  • An error has occurred, which probably means the feed is down. Try again later.