Home » क्या आप जानते हैं सीताफल के लिए एशिया में सबसे बड़ा फार्म कहां है|
Chhatisgarh Hindi News

क्या आप जानते हैं सीताफल के लिए एशिया में सबसे बड़ा फार्म कहां है|

दिनांक-: 28 नवंबर 2021: क्या आप जानते हैं सीताफल के लिए एशिया में सबसे बड़ा फार्म कहां है, यह छत्तीसगढ़ में है. छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के धौराभाठा गांव में यह बना हुआ है. लगभग 400 एकड़ क्षेत्रफल में फैले इस फार्म में 16 प्रकार के फलों की ऑर्गेनिक खेत की जाती है. इस फार्म की शुरुआत अनिल शर्मा और वजीर लोहान ने साल 2014 में की थी।

अनिल शर्मा बताते हैं कि इस फार्म को शुरू करने के लिए उन्होंने 2005 में जमीन खरीदना शुरू कर दिया था. उस वक्त इस इलाके में जमीन सस्ती थी. फिर 2014 में जमीन को प्लेन करके खेत तैयार करना शुरू किया. फिलहाल इस फार्म में 16 प्रकार के फल उगाये जा रहे हैं.
सीताफल उत्पादन के लिए एशिया का सबसे बड़ा फार्म सीताफल उत्पादन के लिए एशिया का सबसे बड़ा फार्म है।यहां पर 180 एकड़ में सीताफल की खेती की जाती है. इसके साथ ही अमरूद यहां पर लगे हुए. यह फार्म ड्रैगन फ्रूट के उत्पादन के लिए भारत का सबसे बड़ा फार्म है. 25 एकड़ में दसहरी आम लगे हुए हैं. इसके अलावा चीकू, मौसमी, नींबू, समेत अन्य फलों के पेड़ लगाये हुए हैं.
अनिल शर्मा ने बताया कि उनके दादा जी किसान थे. पिता जी सरकारी शिक्षक थे और किसान थे. पर वो बिजनेस करते थे. उन्होंने बताया कि वो माइनिंग का बिजनेस करते हैं और देखते थे कि माइनिंग से प्रदूषण होता है. इससे वो यह हमेशा सोचते थे कि अगर कहीं भगवान है और धरती पर यह जीवन पूरा करके जाना है, ऐसे में अगर वो यह हमसे पूछेंगे की तुम्हें अच्छे काम करने के लिए धरती पर भेजा था तुमने क्या किया. इसलिए हमारे मन में यह बात चल रही थी कि अगर हम प्रदूषण फैला रहे हैं तो इसको कम करने का उपाय भी करना चाहिए. इसलिए यहां पर डेढ़ लाख पेड़ लगाये हैं. ताकि प्रदूषण को कम किया जा सके.
पौधे के बीच नहीं है अधिक दूरी
अमूमन दो आम के पेड़ों के बीच 30 फीट की दूरी होती है. पर यहां पर उससे नजदीक में आम के पेड़ लगाये हैं. इस पर अनिल शर्मा ने कहा कि किसानों को यह समझना होगा की जमीन घट रही है, बढ़ नहीं रही है, इसलिए पूरी जमीन का इस्तेमाल करना होगा. फार्म में सिर्फ आम ही नहीं जो भी पेड़ पौधे लगाये गये हैं वो 8X12 फीट की दूरी पर है. ताकि एक ट्रैक्टर जा सके. इस तरह से दो एकड़ में जितने पौधे लगने चाहिए थे वो उन्होंने एक एकड़ में लगा लिये हैं. ताकि कम जमीन में ज्यादा उत्पादन हासिल किया जा सके. इसके अलावा फार्म के अंदर इंटर क्रॉपिंग भी करते हैं.
फलों के अलावा यहां पर गिर प्रजाति की 150  गाय भी पाली गई हैं। इनके चारे के लिए फार्म में ही गन्ना, मकई और नेपियर ग्रास की खेती की जाती है।साथ ही गाय के गोबर और गोमूत्र से जैविक खेती की जाती है.
आम और लीची की बागवानी करने वाले किसानों के लिए अलर्ट!
मोनिका शर्मा
रायपुर

About the author

S.K. Vyas

11 Comments

Click here to post a comment

  • Great beat ! I wish to apprentice while you amend your
    website, how could i subscribe for a blog
    web site? The account aided me a acceptable deal.
    I had been a little bit acquainted of this your broadcast provided bright clear
    concept

  • I’ve been browsing on-line greater than 3 hours as of late, but I never discovered any interesting article like yours. It’s beautiful value enough for me. In my opinion, if all website owners and bloggers made just right content material as you probably did, the web will be a lot more helpful than ever before.

  • It’s perfect time to make some plans for the future and it is time to be happy. I have read this post and if I could I want to suggest you few interesting things or tips. Perhaps you can write next articles referring to this article. I want to read even more things about it!

  • Thanks a lot for providing individuals with remarkably terrific possiblity to read articles and blog posts from here. It’s always so good plus packed with a great time for me and my office peers to search your website on the least three times in one week to see the fresh secrets you will have. Of course, we are actually contented concerning the outstanding knowledge you give. Some two areas in this posting are unequivocally the most impressive we’ve had.

  • I’m finding them for my sister. I’m maddening to locate the most recipes with pictures and the ages of baby for the recipes. Blogs are usually where I would expect to find them..

  • Wow that was unusual. I just wrote an extremely long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyway, just wanted to say wonderful blog!

Most Read

All Time Favorite

Categories

RSS Tech Update

  • An error has occurred, which probably means the feed is down. Try again later.