Home » कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि पूरी तरह एतिहात बरतनें की हैं जरूरत
Hindi News

कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि पूरी तरह एतिहात बरतनें की हैं जरूरत

कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं बल्कि पूरी तरह एतिहात बरतनें की हैं जरूरत अम्बाला, 5 मार्च:- सिविल सर्जन डॉ कुलदीप सिंह ने बताया कि वायरसों का एक बड़ा समूह है कोरोना, एवं जानवरों में यह वायरस आम है। कोरोना वायरस का केस सबसे पहले 1960 में मिला था। वर्ष 2003 में एसएआरएस सीओवी वायरस भी इसी का एक प्रकार था, इसकी मृत्यु दर 10 प्रतिशत दर्ज हुई थी। वर्ष 2012 में एमईआरएस सीओवी भी इसी का एक टाईप था।

करीब 17000 एनसीओवी कोरोना वायरस के केसों के अध्ययन से ये पाया गया है, कि इसके 82 प्रतिशत केसों में छोटी मोटी खंासी, जुखाम के मरीज होते हैं, लगभग 15 प्रतिशत थोड़ा गंभीर निमोनिया के केस होते हैं और लगभग 2 से 3 प्रतिशत मामले ऐसे होते हैं जो किसी अन्य बीमारी से ग्रस्त हो या फिर अधिक वृद्घ हो।

जो कन्फर्म केस है, उनमें मृत्यु दर 2 प्रतिशत से कम पाई गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं हैं, बल्कि हर ऐंगल से सावधान रहने और ऐतिहात बरतने की जरूरत हैं।

एनसीओवी कोरोना वायरस एक नई तरह का वायरस है, जिसने सैकड़ों को संक्रमित किया है। मनुष्यों में यह वायरस पहली बार पाया गया। इस कारण इसे नोवल कोराना वायरस कहा गया है। पहली बार यह वायरस सम्भत: एक जानवर से शुरू हुआ और मनुष्यों में फैल गया है और यह संक्रमित व्यक्ति से भी अन्य व्यक्तियों में फैल सकता है।

यह विश्व के अन्य देशों में भी फैल चूका है। चीन में कोराना वायरस के केस दिसम्बर के मध्य में मिलने शुरू हो गए थे। चीन में 31 दिसंबर को निमोनिया का केस मिला जिसके कारण का पता नहीं चला था और फिर बाद में 7 जनवरी 2020 को चीन ने ‘नोवल कोरोना वायरस’ घोषित कर दिया।

लक्षण:- कोरोना वायरस के लक्षणों में नाक बहना, खांसी, गले में खराश, कभी-कभी सरदर्द और बुखार, जो कुछ दिनों तक रह सकता है। कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों यानी जिनकी रोगों से लडऩे की ताकत कम है, ऐसे लोगों के लिए यह घातक है।

बुजुर्ग और बच्चे इसके आसान शिकार हैं। कोरोना वायरस जानवरों के साथ मानव संपर्क से फैलता है।

उन्होंने बताया कि इस विषय के तहत तीव्र श्वसन रोग (बुखार, खांसी, सांस लेने में कठिनाई) एवं निम्न में से सभी या कोई एक कारण भी हो सकता है।

डॉ कुलदीप सिंह और राजीव सिंगला ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना वायरस बारे बैनर और पोस्टर लगाकर जागरूक करने का काम किया जा रहा हैं। नागरिक अस्पताल के ट्रॉमा सैन्टर में कोरोना वायरस की जानकारी बारे पोस्टर लगाए गए हैं, वहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर बैनर पोस्टर लगाए गए हैं।

इस पोस्टरों व बैनरों पर कोरोना वायरस के लक्षण व बचाव बारे पूरी जानकारी लिखी हैं। साथ ही वायरस से सबसे ज्यादा पीडि़त लोग चीन में होने की जानकारी भी लिखी गई हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना वायरस को लेकर कैन्ट और नागरिक अस्पतालों में आईसोलेशन वार्ड भी स्थापित किए गए हैं।

इसके अलावा आपालकालीन स्थिति उत्पन्न होती हैं तो सेना अधिकारियों के साथ भी बैठक कर ली गई हैं, जिसमें निर्णय लिया गया हैं, यदि कोई ऐसी स्थिति आती है तो सेना अस्पतालों मेें मरीजों को भर्ती किया जाएगा। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में सभी व्यापक प्रबन्ध कर लिए गए हैं।

About the author

SK Vyas

Add Comment

Click here to post a comment

Most Read

All Time Favorite

Categories

RSS Tech Update

  • An error has occurred, which probably means the feed is down. Try again later.