Home » कोमलता
Exclusive Hindi

कोमलता

कोमलता
कोमलता
उपहारों से भरी प्रकृति से
कोई सा भी ले लो उपहार
संचित करने से घटता है
बढ़े बांटने से यह प्यार।

फूलों से कोमलता ले लो
झरनों से शीतलता ले लो
सत्य अहिंसा दया भावना
चहुदिश बिखरे जो भी ले लो।

आधी सच्ची आधी झूठी
आधे हंसमुख आधे रूठे
कृष्ण सरीखा प्रेम सीख लो
कोई तुमसे कभी ना रूठे।

प्रेम के गीत सिखाती गंगा
मन सबका हर्षाती गंगा
निर्मल अविरल बहती जाए
जीवन पथ दर्शाती गंगा।
कोमलता कमल
जालंधर

All Time Favorite

Categories