Home » किसान आंदोलन की आड़ में छुपी हुई काली भेड़ों का चेहरा हुआ बेनकाब: डा. अभय यादव
Hindi News

किसान आंदोलन की आड़ में छुपी हुई काली भेड़ों का चेहरा हुआ बेनकाब: डा. अभय यादव

किसान आंदोलन की आड़ में छुपी हुई काली भेड़ों का चेहरा हुआ बेनकाब: डा. अभय यादव
अभय सिंह यादव

नारनौल,27जनवरी,2021: नांगल चौधरी के विधायक डा. अभय सिंह यादव ने दिल्ली में हुई कल की घटनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जहां कल का दिन भारतीय गणतंत्र का गरिमा पर्व था उसे कुछ स्वार्थी और राष्ट्र विरोधी ताकतों ने कलंकित करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि वे अपने निजी राजनीतिक स्वार्थ में इतने वशीभूत हो गए कि राष्ट्र के गौरव तिरंगे की शान को भी नहीं बख्शा। लाल किले की उस प्राचीर का अपमान किया जो भारत की स्वतंत्रता के बाद में भारत की स्वतंत्रता, प्रभु सम्पन्नता एवं गौरव के प्रतीक राष्ट्रीय ध्वज की वाहक रही है। राजनैतिक सत्ता लोलुपता इस कदर हावी रही कि एक बड़े षड्यंत्र को अंजाम दिया गया। जो कथित किसान नेता शांतिपूर्ण आंदोलन की दुहाई देते थे जिन्होंने टेलीविजन के चैनलों पर बैठकर भारत का दिल जीतने की शेखी बघारी थी। उन्होंने ही अंदर खाते इतना बड़ा षड्यंत्र रचा था जिसकी पूरा राष्ट्र कल्पना नहीं कर रहा था। उन लोगों की चालाकी देखिए कि वह इस षड्यंत्र का पर्दाफाश होने के बाद में स्वयं को अपराधियों से अलग करने का बहाना करके अपराध से पल्ला झाडऩे की कोशिश कर रहे हैं। जो पहले यह कहते थे कि किसान आंदोलन में किसान के अतिरिक्त कोई शरारती तत्व नहीं है वहीं अब गला फाड़-फाड़ कर कह रहे हैं कि कुछ शरारती तत्व उनके आंदोलन में घुस गए। यही बात जब सरकारी एजेंसियां कह रही थी तो उनके खिलाफ अनर्गल प्रचार करने में जुट गए थे।

हमारी पुलिस के नौजवानों के संयम की सराहना करनी चाहिए। जिन्होंने अपने प्राणों की परवाह न करके भी उन्होंने एक भी गोली नहीं चलाई और ना ही उनके द्वारा कोई एक भी व्यक्ति हताहत हुआ। बहादुर नौजवानों की राष्ट्रभक्ति को सलाम करना चाहिए, जिन्होंने अपनी जान की परवाह न करते हुए दूसरों पर प्रहार नहीं किया। यदि अब भी किसान आंदोलन की आड़ में छुपे हुए नक्सलवादी प्रवृत्ति के लोगों में राष्ट्र के प्रति जरा भी श्रद्धा एवं सद्भावना है तो सारे राष्ट्र से माफी मांग कर यह लोग अपने घरों को लौट जाएं। वे भारत के उस प्रधानमंत्री के खिलाफ  षड्यंत्र करने से परहेज करें जो प्रधानमंत्री दिन-रात इस राष्ट्र को आगे बढ़ाने के लिए लगातार प्रयत्नशील है। कल ही विश्व बैंक द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार भारत की 2021 में वृद्धि दर 11.5  प्रतिशत की संभावना का आकलन किया गया है जो इस बात का संकेत करता है कि भारत दुनिया की अर्थव्यवस्था का अग्रणी राष्ट्र बनने जा रहा है। अत: यह समय राष्ट्र के विरुद्ध षड्यंत्र करने वाले लोगों को उन्हीं की भाषा में संदेश देने का है और उनको यह समझ आ जानी चाहिए कि ऐसे षड्यंत्र बहुत ज्यादा समय तक नहीं चला करते हैं और वह अपनी सद्बुद्धि को विकसित करते हुए राष्ट्र के निर्माण में सहयोग करें।

( बी.एल. वर्मा )

All Time Favorite

Categories