Home » आई.के.जी.पी.टी.यू बोर्ड की श्री गुरू नानक देव स्टडी चेयर स्थापना पर मोहर:कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा
Hindi News

आई.के.जी.पी.टी.यू बोर्ड की श्री गुरू नानक देव स्टडी चेयर स्थापना पर मोहर:कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा

आई.के.जी.पी.टी.यू बोर्ड की श्री गुरू नानक देव स्टडी चेयर स्थापना पर मोहर:कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा
कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा

आई.के.जी.पी.टी.यू बोर्ड की श्री गुरू नानक देव स्टडी चेयर स्थापना पर मोहरसरकार के फैंसले का स्वागत-सराहना 

–  “यूनिवर्सिटी बाबा नानक जी की भूमि पर स्थापित हैइसलिए श्री गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं का दुनिया में प्रसार करना हमारी प्रथम जिम्मेदारी: कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा

जालंधर/कपूरथला/चंडीगढ़2020: :आई.के.गुजराल पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (आई.के.जी.पी.टी.यू) जालंधर-कपूरथला के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स (बी.ओ.जी) ने यूनिवर्सिटी में श्री गुरू नानक देव जी के नाम पर एक स्टडी चेयर की स्थापना के सरकार के फैंसले का स्वागत किया है। बोर्ड सदस्यों ने इस फैसले से स्वयं को धन्य महसूस करते हुए इसे नैतिक जिम्मेवारी बताया हैं। उन्होंने इस पर तत्काल काम शुरू करने के लिए यूनिवर्सिटी को जल्द आगे बढ़ने का निर्णय दिया है। यूनिवर्सिटी बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने इस प्रस्ताव को राज्य सरकार की दिशा एवं दृष्टि के अनुसार विस्तार से स्वकृति दी है।

ज्ञात हो कि नवंबर 2019 में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह जी ने श्री गुरु नानक देव जी के 550 साल प्रकाश पर्व के अवसर पर श्री गुरु नानक देव जी के नाम पर एक स्टडी चेयर यूनिवर्सिटी में स्थापित करने की घोषणा की थी। युनिवर्सिटी में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान राज्य सरकार द्वारा तकनीकी  शिक्षा एवं उद्योगिक सिखलाई मंत्री श्री चरणजीत सिंह चन्नी के नेतृत्व में यह पहलकदमी की थी!

आई.के.जी.पी.टी.यू के कुलपति प्रो (डॉ) अजय कुमार शर्मा ने कहा कि युनिवर्सिटी बाबा नानक जी की भूमि पर स्थापित हैइसलिए उनकी शिक्षाओं को दुनिया में फैलाना एवं आने वाली पीढ़ियों को शिक्षित करना हमारी प्रमुख जिम्मेदारी है। उन्होनें बताया कि युनिवर्सिटी बोर्ड सरकार के इस फैसले की बेहद सराहना करता है तथा इस जिम्मेवारी को नतमस्तक है! वीसी प्रो। (डॉ) शर्मा ने श्री गुरू नानक देव जी स्टडी चेयर से संबंधित क्षेत्र और अध्ययन के दायरे के बारे में जानकारी साझा करते हुए बताया कि युनिवर्सिटी श्री गुरू नानक देव जी के जीवनदर्शन एवं कार्य के अध्ययन और समकालीन समय में इसकी प्रासंगिकता पर काम करेगी। शोधकर्ता धार्मिक एवं सांस्कृतिक लिहाज से उनके स्थान के विशेष संदर्भऐतिहासिक दृष्टिकोणमिशन एवं बाद के समय में हुए कार्यों पर काम करेंगे। युनिवर्सिटी बाबा नानक जी की शिक्षाओं के बड़े संदर्भों में गुरुद्वारा श्री बेर साहिब (सुल्तानपुर लोधी) की भूमिका पर भी ध्यान केंद्रित करते हुए काम करेगी। उन्होंने श्री गुरु नानक देव जी से संबंधित कुछ अन्य विषयों के बारे में भी जानकारी साझा कीजैसे साहित्यिक एवं सामाजिक-सांस्कृतिक अध्ययन के संदर्भ में वर्णनात्मक ग्रंथ सूची का निर्माणश्री गुरु नानक देव जी के जीवन और आसपास के विशेष संदर्भ के साथ ऑडियो-विज़ुअल प्रलेखनश्री गुरु नानक देव जी की यात्रा (उदासियां)रबाब के विशेष संदर्भ के साथ दिव्य संगीत (राग) और वाद्ययंत्रश्री गुरु नानक देव जी के संवादों का अध्ययन भी इस स्टडी चेयर की स्थापना का हिस्सा है।

इस अवसर पर यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार संदीप कुमार काजल ने कहा कि बीओजी द्वारा अनुमोदित योग्यता के अनुसार चेयर प्रोफेसर की भर्ती पर काम शुरू करेगी। उन्होंने साझा किया कि यूनिवर्सिटी धार्मिक अध्ययन सिख धर्मपंजाबी भाषा और साहित्य जैसे विषयों में डॉक्टरेट की डिग्री हासिल एक प्रतिष्ठित विद्वान की इस चेयर के प्रोफेसर के तौर पर नियुक्ति करेगी तथा इस कार्य से वे गौरव एवं सम्मानित महसूस करते हैं! यह नियुक्ति सिख धर्मसिख इतिहाससिख दर्शन या श्री गुरु नानक देव जी पर बड़ी शोध कार्य प्रकाशित  वाले की होगी। उन्होनें कहा कि इस पावन विषय पर काम करना एक तकनीकी युनिवर्सिटी के लिए नया सीखने का बेहतर अवसर होगा।

मधुर व्यास :

All Time Favorite

Categories