Home » अन्ना गैंग जेल में, लीडर सहित सभी गिरफ्तार
Hindi News

अन्ना गैंग जेल में, लीडर सहित सभी गिरफ्तार

अन्ना गैंग जेल में, लीडर सहित सभी गिरफ्तार -गैंग से 3 रिवाल्वर, 2 बाइक बरामद,

नारनौल,28सितम्बर,2020: स्थानीय सीआईए ने अन्ना गैंग लीडर प्रदीप व उसके साथी लोकेश उर्फ  लक्की को रिमांड खत्म होने पर आज अदालत में पेश किया गया, जहां अदालत ने दोनों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत नसीबपुर जेल भेज दिया है। रिमांड के दौरान अन्ना से एक रिवाल्वर व डायरी बरामद की है, जिसमें सभी गैंग मेम्बरों के नाम व पते लिखे हुए थे।
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि शहर में दो घटनाएं गोली चलाकर फिरौती मांगने की हुई थी, जिससे शहर में दहशत का माहौल बन गया था, सीआईए नारनौल ने 48 घण्टे में ही इस गैंग का पता लगा लिया। इससे पहले ओर कोई वारदात को अंजाम देते पुलिस ने आरोपियों की घेराबंदी करके बारी-बारी से गिरफ्तार किया है। इस गैंग के लीडर प्रदीप उर्फ  अन्ना ने भी अपने साथी लोकेश के साथ मजबूर होकर 23 सितम्बर की रात सीआईए पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। सीआईए ने आरोपी अन्ना व उसके साथी को कोर्ट में पेश करके 5 दिन के पुलिस रिमांड लिया था। रिमांड के दौरान आरोपी गैंग लीडर प्रदीप ने बताया कि फिरौती मांगने की उन्होंने शुरुआत की थी। उनका अगले टारगेट शहर मंडी नारनौल के व्यापारी थे पर भाजपा नेता दया राम के बेटे को गोली मारनी बहुत महंगी पड़ी और जब उन्होंने अगले दिन वाटअप पर न्यूज देखी की सीआईए व अन्य पुलिस की टीम वारदात के आरोपियों की खोज में जुट गई हैं। जिससे वे डर गये और अपने साथियों से कहा कि गोली मारकर हमने बहुत बड़ी गलती कर दी हैं। अब हमें यहां से भाग जाना चाहिए और सभी गैंग के सदस्यों के नाम व नम्बर ओर पता अपनी डायरी में लिख लिया। वे अलग अलग होकर शहर नारनौल से भाग गए पर पुलिस की लगातार दबिश से डर के मारे अलग अलग शहरों में भागता रहा। उसके पास पैसे भी खत्म हो गए, एक दो जगह रुपए मांगे पर नहीं मिले। आखिर में उसने व साथी लोकेश ने सीआईए में आकर सरेंडर कर दिया।
आरोपी अन्ना ने पूछताछ पर बताया कि 2009 में नारनौल मंडी के व्यापारी को गोली मारने के जुर्म में में जेल में बंद था तभी उसकी मुलाकात कासनी गांव के एक लडक़े से हुई, जो हत्या के मामले में जेल में बंद था, तभी से उसकी दोस्ती चली आ रही थी। उसी के साथ में जनता कफ्र्यू से पहले मथुरा के पास एक गांव से अवैध हथियार लाया था ओर उसके बाद इसी दोस्त प्रवीण की  मदद से हमने यह गैंग तैयार की गई। प्रवक्ता ने बताया कि सीआईए नारनौल पुलिस ने इस मामले में तत्परता दिखाते हुए पहले ही प्रदीप उर्फ  अन्ना गेंग के सभी सदस्य सोमबीर, राकेश, रोहित, विकाश, सोनू, प्रदीप उर्फ  अन्ना, लोकेश व प्रवीण को गिरफ्तार कर लिया था। इस गैंग का अब कोई सदस्य बाहर नहीं है। गैंग का पटाक्षेप हो चुका हैं।
एसपी चन्द्र मोहन ने बताया कि सीआईए व साईबर जिला पुलिस की सबसे ज्यादा मजबूत पुलिस एजेंसी है। जो आपसी ताल मेल से वांछित व खूंखार अपराधियों को गिरफ्तार करते हैं। अब ओर कुशल कर्मचारी सीआईए व साईबर में बढ़ाये जा जाएंगे, ताकि भविष्य में इस तरह की गैंग को पनपने नहीं दिया जाएगा।

बी.एल. वर्मा

All Time Favorite

Categories